शीतला अष्‍टमी पर करें ये उपाय – नही होगा कोरोना का खतरा – पंडित शिव मल्‍होञा

नवलोक समाचार. दुनिया भर में कोरोना वायरस को लेकर सभी देश चिंतित है जिसका इलाज अभी तक खोजा भी नही गया है , कोरोना लेकर सिर्फ एहतियात बरतने की सलाह ही दी जा रही है,  लोग भयभीत है, लेकिन कोरोना वायरस के बारे इटारसी के ज्‍योतिषाचार्य शिव मल्‍होञा का दावा है कि यदि उनके बातये गये उपाय को करने के से कोराना वायरस से बचा जा सकता है. अजार्य मल्होञा ने बताया कि शास्‍ञो में देवी पूजन के साथ साथ देवी पूजन से प्राप्‍त होने वाले लाभ का वर्णन है, जिसके चलते शीतला माता के पूजन से किसी भी प्रकार की बड़ी से बड़ी महामारी से बचा जा सकता है.
कोरोना वायरस  (महामारी) से बचाव हेतु करें शीतला अष्टमी में अचूक उपाय

पंचांग अनुसार  शीतला अष्टमी 16 मार्च को है परंतु कुछ पंचांग 17 मार्च को भी मान रहे हैं
चैत्र मास की कृष्णपक्ष की  अष्टमी को शीतला अष्टमी मनाई जाती है। यह त्योहार होली के 8 दिन बाद मनाया जाता है। कई जगह इसे बासौड़ा भी कहते हैं। इस त्योहार में शीतला माता की पूजा की जाती है और शीतला माता को बासी भोजन का भोग लगाया जाता है। इसके लिए सप्तमी की रात याने आज बासी भोजन बनाया जाता है और सुबह शीतला माता की पूजा कर प्रसाद के रुप में खाया जाता है। इस दिन आटे का दीपक बिना लाए अर्पित करें एवं अगरबत्ती भी बिना  जलाए अर्पित करें। मान्यता है कि माता शीतला का व्रत रखने यह पूजन करने से किसी भी प्रकार की बड़ी से बड़ी महामारी रोग  दूर होती हैं। शिव मल्होत्रा ज्योतिषाचार्य
कोरोना वायरस  (महामारी) से बचाव के सटीक उपाय
1. शीतला माता को शीतला अष्टमी पर नारियल पानी से स्नान कराएं ऐसा करने से
कोरोना वायरस  (महामारी) से बचा जा सकता है। अगर कोई इस रोग से परेशान है तो शीतला माता को नारियल पानी का भोग लगाकर प्रसाद के रूप में रोगी को दें रोगी निश्चित ही ठीक होने लगेगा।
कोरोना वायरस  (महामारी) बचाव हेतु रक्षा कवच
2. एक लाल धागा नीम की लकड़ी में लपेट के माता जी के पास रख दें पूजन के पश्चात घर के सभी सदस्य के गले में बांधे ऐसा करने से किसी भी प्रकार की कोरोना वायरस जैसी महावारी आपको नहीं होगी।
आचार्य शिव मल्होत्रा, इटारसी ज्‍योतिषाचार्य

 

Comments are closed.

Translate »