संकुल प्रचार्य की करतूत बिना वेतन पत्रक बुलाये निकाला वेतन

रेवाबनखेड़ी स्कूल प्रभारी द्वारा बिना वेतन पत्रक संकुल शाला में भेजे स्वयं और महीनों से गैर हाजिर शिक्षिका अनिता भल्लवी का निकलवाया वेतन, संकुल प्रचार्य सुरेश चौधरी ने भी माह जून 2022 से अक्टूबर 2022 तक निकाल दिया गैर हाजिर शिक्षिका का वेतन

नवलोक समाचार, सोहागपुर।

यहां के शासकीय कन्या शाला स्कूल प्रचार्य द्वारा ग्राम रेवा बनखेड़ी सहित अन्य स्कूलों के वेतन बिना वेतन पत्रक के निकाल कर आर्थिक अनियमितता की है। दरअसल ग्राम रेवा बनखेड़ी के प्राथमिक शाला में पदस्थ शिक्षिका अनिता बरकड़े उर्फ अनिता भल्लवी लगातार वर्षो से शाला से गैर हाजिर है, जिसका वेतन संकुल प्रचार्यो द्वारा लगातार 1 जनवरी 2019 से माह अक्टूबर 2022 तक निकाल दिया, उक्त मामला मीडिया द्वारा उजागर करने के बाद कन्या शाला के प्रचार्य सुरेश चौधरी ने नबंवर माह से उक्त शिक्षिका का वेतन रोका है।

उधर शाला की प्रभारी आशा साहू द्वारा भी खुद की शाला के वेतन पत्रक भी संकुल शाला में नही भेजे गए और बिना वेतन पत्रको के लगातार वेतन निकलता रहा, ये कारगुजारी पूर्व प्रचार्य श्रीलाल रघुवंशी से लेकर सुरेश चौधरी तक कि गई है। उधर सूचना अधिकार अंतर्गत रेवा बनखेड़ी स्कूल के हाजिरी रजिस्टर और निरीक्षण पंजी की प्रमाणित प्रतिलिपि मागी गई थी , जो कि शिक्षिका आशा साहू द्वारा समय सीमा निकलने के बाद भी नही दी। वही कन्या शाला से भी वर्ष 2019 से लेकर वर्ष 2022 तक के वेतन बिल और वेतन पत्रक मांगे गए थे वह भी नही दिए गए, डीईओ के आदेश के बाद एक वर्ष के वेतन बिल दिए गए है। हैरत की बात है कि साठगांठ से वेतन निकालने वालो ने एनआईसी पोर्टल तक से वेतन बिल हटवा दिए है, प्रचार्य के लॉगिन से वेतन बिल निकालने की कोशिश की गई लेकिन सभी वेतन बिल पोर्टल पर नही मिले। मामला आर्थिक अपराध से जुड़ा हुआ है जिसमे रेवा बनखेड़ी शाला की प्रभारी आशा साहू जिसने बिना वेतन पत्रक भेजे वेतन बिल बनवा लिये तो प्रचार्य सुरेश चौधरी द्वारा बिना वेतन पत्रको के वेतन कैसे निकलवा दिया जांच का विषय है।

रेवा बनखेड़ी शाला में पदस्थ शिक्षिका अनीता बरकड़े पिछले 3 सालों से अधिक समय से शाला से गैरहाजिर है , जानकारी के चलते उक्त शिक्षिका द्वारा मेडिकल अवकाश के लिये भी आवेदन दिया था लेकिन उक्त आवेदन को किसने स्वीकृत किया और मेडिकल अनफिट के बाद मेडिकल फिट सर्टिफिकेट भी नही दिया गया फिर उक्त शिक्षिका का वेतन कैसे और क्यो निकाला गया है , साठगांठ की ओर इशारा कर रहा है।

शाला का पीटीए खाता खाली

जानकारी है कि शासकीय कन्या शाला के प्राचार्य सुरेश चौधरी द्वारा शाला के विभिन्न मदो से राशि को निकाल कर खाते खाली कर दिए है, पालक शिक्षक संघ के खाते से 3 लाख 70 हजार से अधिक की राशि के कार्य कराए जाने की जानकारी है वही अन्य मदो से भी राशि निकाल कर खर्च कर दी गई है। जिला शिक्षा अधिकारी सहित जिले के जिम्मेदार कलेक्टर को कन्या शाला स्कूल में चल रही आर्थिक अनिमितताओं पर ध्यान देने की जरूरत है।

Comments are closed.