Navlok Samachar
Breaking Newsइंटरव्यूक्राइम अलर्ट

महेश के हत्यारे पुलिस गिरफ्त से दूर क्यों ?

पकड़कर छोड़ दिया था सन्दिग्ध हत्यारो को , जबकि उन्ही लोगो ने महेश अहिरवार के शव को गड़ा होना बताया था।

नवलोक समाचार, सोहागपुर। यहां के ग्राम गुन्दरई के रहने वाले महेश अहिरवार की हत्या करके शव को ग्राम में ही दफना दिया गया था, परिजनों द्वारा संदिग्ध लोगों के नाम बताए गए थे जिस पर पुलिस ने पूछताछ की ओर उन्ही के बताए स्थान से शव को जमीन से बाहर निकाला गया था, घटना को एक महीना बीत चुका है, लेकिन अभी तक महेश मर्डर के हत्यारे पुलिस से दूर है। अब परिजनों ने मामले को लेकर गृह मंत्री तक से गुहार लगाई है।

बता दे कि ग्राम गुंदरई निवासी मुन्ना लाल अहिरवार ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए गृह मंत्री और गृह सचिव से शिकायत की है कि उसके पुत्र महेश की हत्या गांव के ही लोगो ने की है जिन्हें पुलिस ने अरेस्ट करने के बाद छोड़ दिया है , जबकि उन्ही लोगो की निशानदेही ओर गांव की जमीन से शव बरामद किया था। दरअसल मृतक महेश को 5 दिसम्बर को ही गांव के रिंकू रघुवंशी द्वारा शाम 7 बजे घर से बुलाकर साथ लेकर गया था, तब मृतक अपनी माँ और पिता को बोलकर रिंकू रघुवंशी के साथ चला गया था, तब से ही वह घर नही लौटा था, तब परिजनों ने खोजबीन की , रिंकू से भी पूछताछ की तो उसने धमकी भरे लहजे में कहा कि वह तो बहुत देर का चला गया था। मृतक के पिता ने बताया कि मेरे मझले बेटे यशवंत ने रिंकू से कहा कि मैंने छोटे भाई महेश को तेरे अलावा रामस्वरूप अहिरवार, खेमचंद रघुवंशी, ऋषि रघुवंशी, हल्का रघुवंशी, रमेश अहिरवार के साथ नाले तरफ जाते देखा है, मेरा भाई उसी दिन से घर नही पहुचा है। मृतक की जानकारी न लगने के बाद 7 दिसम्बर को मृतक महेश की गुमशुदगी की रिपोर्ट सोहागपुर थाने में दर्ज कराई गई थी।
शिकायत में कहा गया है कि मृतक महेश के शव को पुलिस ने 12 दिसंबर को गांव के पास नाले में आरोपियों के बताने के बाद बरामद किया था, पुलिस ने सभी 6 आरोपियों को अरेस्ट किया था बाद में छोड़ दिया जो पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़ाकर रहा है।

मृतक की हत्या सर में गम्भीर चोट मारने से हुई है ये पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी आ चुकी है वही सभी आरोपियों की निशानदेही पर ही शव को जमीन से बाहर निकाला गया था। जिसके बाद भी पुलिस ने सभी आरोपियों को खुला छोड़ दिया है वे सभी आरोपी हम गरीबो को धमकी दे रहे कि कोई कार्यवाही की तो हमसे बुरा कोई न होगा।

पुलिस की जघन्य हत्याकांड में अभी तक हत्या के आरोपियों को नही पकड़ पाना , कई सवाल पैदा कर रही है।

Related posts

1050 किलो ग्राम महुआ लाहान एवं 108 लीटर हाथ भट्टी शराब जप्त

mukesh awasthi

सुरखी से पराजित भाजपा प्रत्याशी सुधीर बोले- मैं, जिन गद्दारों के कारण हारा उनकी सजा मौत है

mukesh awasthi

कराची में मारा गया गैंगस्टर फारूक, दाऊद की हत्या की साजिश रचने का था शक

mukesh awasthi
G-VC9JMYMK9L