Navlok Samachar
Breaking Newsपर्यटनराज्यविदेश

नए साल में मड़ई में बुक हुई होटल्स , बढ़ेगी टूरिस्ट की भीड़

टूरिस्ट को आकर्षित कर रहे वन्यप्राणी

नवलोक समाचार, सोहागपुर।
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के मड़ई वाइल्ड लाइफ पार्क में वन्यप्राणियों को नजदीक से देखने पर्यटकों की खासी भीड़ देखने को मिलने लगी है, नए साल में पर्यटकों ने यहां जश्न मनाने की तैयारी के चलते होटल्स में रूम बुक कर लिये है। उधर जिला प्रशासन ने भी नए साल को लेकर मड़ई में कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है।
नर्मदापुरम में सतपुड़ा टाइगर रिजर्व का मड़ई डेस्टिनेशन अब देश विदेश में लोगो के लिये पसंदीदा पॉइंट बन गया है, दरअसल पर्यटकों के लिये यहाँ के टाइगर और वायसन आकर्षण का केंद्र है। सर्दी के दिनों में सुबह की जंगल सफारी के दौरान टूरिस्ट को टाइगर दिखाई दे रहे हैं, वही यहां वायसन , गौर , नीलगाय,भालू , चीतल , सांभर आदि पर्यटकों को देखने मिल जाते है। वैसे शहरी आवोहवा से दूर वास्तविक जंगल भी देखना युवा पीढ़ी को रोमांचित कर देता है। 
वन विभाग के इको टूरिज्म द्वारा जंगल सफारी के लिये जिप्सी ऑनलाइन बुकिंग की जाती है, यहां ठहरने के लिये मडई के सरकारी रेस्ट हाउस के अलावा एमपीटी की होटल वायसन लाज के अलावा यहां 2 दर्जन के लगभग रिसोर्ट और लग्जरी होटल्स भी है जिनमे ऑनलाइन बुकिंग की जा सकती है।

कैसे पहुँचे मड़ई

सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के मड़ई वाइल्ड लाइफ पार्क में पहुचने के लिये देश भर से साधन उपलब्ध है है , मड़ई के सबसे नजदीकी हवाई अड्डे भोपाल और जबलपुर है, वही ट्रेन मार्ग से आने वालों के लिये पिपरिया , सोहागपुर, इटारसी और होशंगाबाद नजदीकी स्टेशन है। वही अपनी निजी कार या ट्रेवल्स कार द्वारा आप भोपाल , इंदौर , जबलपुर से सीधे सोहागपुर आ सकते है, सोहागपुर से 19 किलोमीटर दक्षिण में मड़ई वाइल्ड लाइफ पार्क है। यहां सर्वसुविधायुक्त होटल्स उपलब्ध है वही सोहागपुर में भी टूरिस्ट के लिये होटल्स आसानी से मिल जाती है।

कैसे करे बुकिंग ।

मड़ई आने वाले टूरिस्ट के लिये सतपुड़ा टाइगर रिजर्व यानी एसटीआर की साइट पर जाकर ऑनलाइन बुकिंग की जा सकती है।

Related posts

एक थाना प्रभारी ने जारी की अनुमति, दूसरे ने फाड़ कर मोटर साइकिल की जप्‍त

mukesh awasthi

प्रदेश का मतदाता इस बार ठगाने वाला नहीं, झूठ, छलावे में आने वाला नहीं: कमलनाथ

mukesh awasthi

नाशिक से भोपाल लाये गए श्रमिको को भेजा जा रहा गृह जिलो तक

mukesh awasthi
G-VC9JMYMK9L