एमपी आरडीसी की लापरवाही- सड़क और पुल हुए खस्‍ताहाल, न रिपेयरिंग और न ही किया जा रहा रखरखाव

0
111

नवलोक समाचार, होशंगाबाद.

यहां होशंगाबाद से पचमढी तक चेतक इंटरप्राइजेज कंपनी द्वारा बीओटी प्राजेक्‍ट में बनाई गई सड़क रखरखाव के अभाव में खस्‍ताहाल हो चुकी है. सड़क के साथ साथ तवा नदी पर बना एक किलोमीटर लंबा पुल भी र्जजर हालत मे पहुंच चुका है,जिससे कोई बड़ा हादसा होने की संभावना बनी हुई, लेकिन इस ओर न तो मध्‍यप्रदेश की सरकार को ध्‍यान है और न ही जिम्‍मेदार ऐंजेसी एमपी आरडीसी द्वारा सडक की मरम्‍मत की जा रही है. उधर पिपिरया के दोनो आरओबी का काम भी पिछले कुछ महीनो से बंद पड़ा हुआ है.

बता दें कि होशंगाबाद जिला मुख्‍यालय से लेकर पचमढी सहित नरसिहपुर जिले की तरह जाने वाली सडक की हालत बद से बदतर हो गई है, सडक में गडडे हो चुके है जिसके कारण अब घटना दुर्घटनाए भी आये दिन देखने को मिल रही है. स्‍टेट हाईवे से इस सडक को नेशनल हाईवे में बदलने की प्रकिय्रा के चलते अब सडक को लेकर जिम्‍मेदारी लेने वाली कोई संस्‍था भी खुल कर बात नही कर पा रही है, कहा जा रहा है कि फिलहाल उक्‍त सडक एमपी आरडीसी के हाथ में है जो जिसके पास अब फंड नही है, पुराने ठेकेदारो के भुगतान रूके हुए है, ऐसी हालत में सडक का पेंच वर्क सहित रखरखाव भी नही हो पा रहा है. उधर त‍वा नदी पर बने पुल की हालत भी दयनीय बनी हुई है.

उधर पिपरिया में भी पचमढी जाने वाले रास्‍ते पर बनने वाले आरओबी काम ठप्‍प पडा हुआ है, तो पिपरिया से न‍रसिंहपुर जाने वाले मार्ग पर ग्राम बांसखेडा पर बनने वाले आरओबी का काम पि‍छले कई महीनो से रूका हुआ है. जिसकी बजह ठेकेदारो को पूर्व का भुगतान नही होना बताया जा रहा है, जिम्‍मेदार जन प्रतिनिधियो का कहना है कि सरकार इन दिनो कर्ज में डूबी है, जिसके चलते पुराने निर्माण कार्यो के भुगतान नही हो पा रहे है. एमपीआरडीसी के अधिकारियो का भी कहना है कि पिछली सरकार में जिन ठेकेदारो ने काम किया है उनका भुगतान रूका हुआ है नया काम करने के लिए अभी कोई बजट स्‍वीकृत नही हुआ है जिसके कारण सडक की मरम्‍मत आदि नही हो पा रहा है.