भेल लेडीज क्लब की उखड़ने लगी परतें

0
66

राजू प्रजापति

9926536689,

भोपाल। भारत देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री स्वर्गीय पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भोपाल में एच ई एल की स्थापना की थी ।जिससे यहां के लोगों को रोजगार मिल सके धीरे धीरे कारखाने का विस्तार हुआ और उसने अपना विशाल रूप धारण कर देश की महारत्न कंपनी में अपना नाम बीएचईएल के रूप में दर्ज किया इस कारखाने में कार्यरत कर्मचारियों की मृत्यु के पश्चात उनकी बेसहारा विधवा महिलाओं के लिए वर्ष 1985 में भेल लेडीज क्लब वेलफेयर सोसायटी की अध्यक्ष श्रीमती चंद्रा डोडेजा के द्वारा विधवा बेसहारा महिलाओं के लिए रोजगार मुहैया कराया ।जब से आज तक चारों बिंग में महिलाएं कार्यरत हैं ।लेकिन उन्हें समान कार्य का समान वेतन नहीं मिलता अकुशल अर्ध कुशल कुशल तीन श्रेणियों में श्रम विभाग के नियम अनुसार वेतन का भुगतान होना चाहिए लेकिन इन महिलाओं को अकुशल मजदूर के रूप में भुगतान किया जाता है। साल में एक बार बोनस दिया जाता है ।जबकि भेल कारखाने में कार्यरत कर्मचारियों को वर्ष मे दो बार बोनस दिया जाता है। हाल ही में आपस में माइका मैं महिलाओं की लड़ाई हुई जो मामला थाना पिपलानी मैं दर्ज हो गया इससे पूर्व में भी कई बार इस प्रकार की घटनाएं घटित हो चुकी हैं ।लेकिन प्रबंधक और अध्यक्ष डॉ श्रीमती प्रतिभा ठाकुर ने इस और ध्यान नहीं दिया महिलाएं लगातार शिकायत करती रहती हैं। लेकिन उनकी शिकायतों पर गौर नहीं किया अब यह मामला अदालत पहुंचेगा महिलाएं अदालत के चक्कर लगाएंगी या अपने बच्चों को पालेंगी एक और जहां महिलाओं को बराबर का हक देने की बात की जाती है। वहीं दूसरी ओर उनका महिलाएं ही शोषण कर रही है एक और जहां भेल लेडीज क्लब वेलफेयर सोसायटी जगह जगह जा कर फल वितरण स्टेशनरी का सामान ब्यूटी पार्लर का कोर्स इस प्रकार की गतिविधियां करती हैं। लेकिन जो महिलाये इनके यहां कर्मचारी हैं उनके घरों में जाकर इन्होंने कभी नहीं देखा कि उनके बच्चों और उनको किस प्रकार की समस्या है या किस चीज की आवश्यकता है
यह एक गंभीर विषय है भेल लेडीज क्लब द्वारा अभी तक जांच कमेटी नहीं बिठाई जिससे इस बात का खुलासा हो सके इस प्रकार की घटनाएं क्यों घटित हो रही है। और महिलाओं की समस्याओं का निराकरण हो सके जब प्रबंधक को चारो बिंग की जवाबदेही सौंपी गई है। तो फिर उस पर अभी तक कार्रवाई क्यों नहीं की गई क्या किसी और गंभीर या बड़ी घटना का इंतजार है यह एक विचारणीय प्रश्न है

जब हमने भेल कर्मचारी एवं ठेका श्रमिक संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष बारेलाल अहिरवार से पूछा तो उन्होंने प्रबंधक अशोक कुमार गुप्ता पर आरोप लगाया कि हिटलर की तरह तानाशाही कर रहे हैं। असली वजह यही है नई नई महिलाओं की गुप्त रूप से भर्ती की जाती है। और पुरानी महिलाओं को निकाल दिया जाता है ।यही महिलाओं को लगातार प्रताड़ित कर रहा है जिससे मायका में इस प्रकार की घटना घटित हुई महिलाओं को सम्मान जनक वेतन नहीं मिल पा रहा इस की लड़ाई हम लड़ रहे हैं