रक्षा मंत्री ने कहा- यूपीए सरकार 8 साल में 18 जहाज नहीं ला पाई, हम पहला राफेल सितंबर में ले आएंगे

0
14

नई दिल्ली. लोकसभा में शुक्रवार को भी राफेल डील पर चर्चा हुई। चर्चा का जवाब देते हुए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इन्होंने (यूपीए सरकार ने) जब डील की थी, तब 18 विमान तैयार हालात में मिलने थे। बाकी 108 विमान 11 साल की अवधि में बनाए जाने थे। 2006 के बाद 2014 तक आप 18 जहाज भी हासिल नहीं कर सके। ऐसा क्यों? हमारी डील में पहला एयरक्राफ्ट 2016 में हुई डील के 3 सालों के भीतर आना था और इसके बाद आखिरी विमान 2022 तक आखिरी विमान भी हमें मिल जाना था। इस साल सितंबर में आपको पहला विमान मिल जाएगा यानी कॉन्ट्रैक्ट साइन होने के 3 साल के भीतर ही यह मिलेगा।
रक्षा मंत्री ने कहा- आज मैं हर बात का जवाब दूंगी। रक्षा सौदे देश की सुरक्षा से जुड़े मामले हैं। देश को यह समझना होगा कि रक्षा सौदे गोपनीय होते हैं। देश की सरहद पर संवेदनशील माहौल है। सरकार में जो भी है, उसे यह समझना होगा, जिम्मेदारी लेनी होगी। पिछले 10 साल में हमारे पड़ोसियों में क्या बदलाव हुए हैं? चीन के पास 400 लड़ाकू एयरक्राफ्ट हैं, इनमें फिफ्थ जनरेशन एयरक्राफ्ट हैं। पाकिस्तान ने अपनी लड़ाकू विमानों की क्षमता बढ़ाई है। हमारे पास क्या है? 2002 में हमारे पास 42 स्क्वॉड्रन थी। यह 2007 में घटकर 36 और 2015 में 32 स्क्वॉड्रन हो गईं। हमारे पड़ोसी अपनी क्षमता बढ़ा रहे हैं, हमारी क्षमता घट रही है।

रक्षा मंत्री ने कहा- आपकी कभी जहाज खरीदने की मंशा नहीं थी

निर्मला ने कहा- आपने यह जानते हुए भी डील को अटका दिया कि वायुसेना परेशानी झेल रही है। यहां रक्षा सौदे और सुरक्षा के लिए हुए सौदे में अंतर है। हम कोई रक्षा सौदा नहीं कर रहे हैं। यह सुरक्षा के लिए की गई डील है, क्योंकि राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है। मैं यहां तथ्य रख रही हूं। मैं आरोप लगाती हूं कि इनकी मंशा जहाज खरीदने की थी ही नहीं। राष्ट्रीय सुरक्षा खतरे में होने के बावजूद इन्होंने इस डील को अटकाया।

राहुल ने कहा- हम सत्ता में आए तो दोषियों को सजा दिलाएंगे

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने संसद भवन के बाहर मीडिया से कहा- अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो इस मामले की आपराधिक जांच होगी और दोषियों को सजा दी जाएगी। अरुण जेटलीजी से कहना चाहता हूं कि वे मुझे गाली देना बंद करें। मुझे गाली देने की बजाय वे राफेल पर हमारे द्वारा उठाए गए सवालों के जवाब दें।
लोकसभा में चर्चा के दौरान कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में जो हलफनामा दायर किया था, वह गलत है। केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट और जनता को गुमराह किया। यही वजह है कि हम संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की मांग कर रहे हैं।
भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस ने बहस की तैयारी में 20 दिन का वक्त लिया। जब विपक्ष की तरफ से एक नेता बोलने के लिए आए तो वे कन्फ्यूज थे। ये ऐसे नेता थे जो जमानत पर हैं। वे 20 मिनट में 20 झूठ बोलकर चले गए।