किस्मत से इतना नाराज कि मंदिरों में 4 बार की चोरी: जेल से छूटते ही फिर पहुंचा, लेकिन गिरफ्तार हो गया

0
70

भोपाल . नाराजगी में किसी से बदला लेने वाले तो बहुत से देखे होंगे, लेकिन एक चोर ऐसा भी जो शायद भगवान से नाराज है। 23 साल की उम्र में उसे चोरी के 4 मामलों में पकड़ा गया। हर वारदात उसने मंदिर में ही की है। सवाल करने पर कोई जवाब नहीं देता, इसलिए पुलिस मानती है कि वह शायद अपनी किस्मत से ही नाराज हो गया है। मंदिर के दान की राशि चुराने की कोशिश में वह फिर पकड़ा गया। हबीबगंज पुलिस ने इस बार उसे चोरी की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया है।

शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात करीब डेढ़ बजे थे। चार इमली स्थित ऋषि नगर में साईं मंदिर पर रहवासियों ने कोई आहट सुनी। जाकर देखा तो एक युवक मंदिर की ग्रिल उखाड़ने की कोशिश कर रहा है। उसकी नजर रहवासियों पर पड़ी तो भागने लगा। पास ही एक सर्वेंट क्वार्टर की छत पर जा चढ़ा। लोग पीछे आने लगे तो बचने के लिए वह करीब 12 फीट ऊंचाई से जमीन पर कूद गया। हाथ-पैर टूट गए। इस बीच हबीबगंज थाने की एफआरवी भी आ गई। लोगों ने उसे पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस देखते ही उसे पहचान गई। सिपाही ने कहा अरे, ये तो विशाल है। फिर पूछा क्यों, तूं फिर पहुंच गया मंदिर में? उसने जवाब दिया कि साहब घर के पास यही मंदिर था, इसलिए दानपेटी चुराने आया था।

7 महीने बाद 30 नवंबर को जेल से छूटा : सीएसपी भूपेंद्र सिंह के मुताबिक कोलार कॉलोनी झुग्गी में रहने वाला 23 वर्षीय विशाल नरवरे महज तीसरी पास है। 30 नवंबर की शाम को ही वह जेल से छूटा और कुछ घंटे बाद मंदिर में फिर चोरी करने पहुंच गया। पुलिस ने इस बार चोरी की कोशिश का केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। अदालत में पेश कर उसे जेल भेज दिया जाएगा।

अब विशाल की खोली जाएगी निगरानी फाइल : पुलिस ने बताया कि विशाल के खिलाफ चोरी के 4 अपराध दर्ज हैं। हर वारदात उसने मंदिर में ही की है। पूछताछ में वह इसकी कोई भी ठोस वजह नहीं बताता है। मंदिर में चोरी करना उसके लिए अब आसान हो गया है, इसलिए वह हर बार ऐसा ही करता है। हालांकि, पुलिस ये भी अंदाजा लगा रही है कि अपनी किस्मत को लेकर उसके जहन में भगवान से नाराजगी झलकती है। संभव है कि इसलिए वह ऐसा करता हो। वह लगातार चोरियां ही कर रहा है, इसलिए पुलिस अब उसकी निगरानी फाइल भी खोली जा रही है।