प्रदेश का मतदाता इस बार ठगाने वाला नहीं, झूठ, छलावे में आने वाला नहीं: कमलनाथ

0
23

भोपाल. प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ ने आज सागर जिले की रहली और खुरई, विदिशा जिले की पठारी (कुरवाई) तथा सीहोर जिले के पिपलानी में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया। इस अवसर पर विधानसभा के कांगे्रस प्रत्याशीगण, स्थानीय कांगे्रस पदाधिकारी और ग्रामीण इलाकों के हजारों किसान, गांव वाले कमलनाथ जी को सुनने उमड़ पड़े थे। कमलनाथ ने चारों सभाओं में शिवराज सरकार पर घोटालों, भ्रष्टाचार, किसानों, युवाओं, महिलाओं आदि पर केंद्रित मुद्दों पर जमकर हमला किया। उनके द्वारा भाषण में दिये गये कुछ खास बिंदु इस प्रकार हैं:-
ऽ प्रदेश मंे कोई भी माफिया हो, वाहे वह रेत माफिया, शराब माफिया या सट्टे का माफिया हो, सभी का नेतृत्व भाजपा के नेता करते हैं। 
ऽ व्यापमं कांड में जिन्होंने घूस दी वे जेल में हैं और जिन्होंने घूस ली वे शिवराज के राज में बाहर मजे कर रहे हैं। 
ऽ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह अपने आप को मामा कहते हैं। वे कैसे मामा हैं कि मध्यप्रदेश को बलात्कार में नंबर वन बना दिया है। 
ऽ सबसे ज्यादा योजनाऐं महिलाओं के लिए यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर बनायी गयीं और शिवराजसिंह ने अपनी फोटो लगाकर उसमें वाहवाही लूट ली। 
ऽ भ्रष्टाचार की एक नई व्यवस्था शिवराज के राज में प्रदेश में बनायी गई। किसान मंडी में बेचे गये अपने अनाज का पैसा लेने जब बैंक जाता है तो बैंक कहता है कि हमारे पास नगद नहीं हैं, तब मजबूरी में किसान को कहना पड़ता है कि मैं आपको पैसे देता हूं हमारी रकम निकाल दो। 
ऽ मुझे याद है जब कांगे्रस की सरकार थी तो किसान कहते थे कि समर्थन मूल्य बढ़वा दो और आज कहते हैं दिलवा दो। बड़े जोर शोर से कहा था कि फसल बीमा की राशि मिलेगी, लेकिन यह राशि किसानों को न मिलकर तेरह हजार करोड़ का फायदा बीमा कंपनियों को करा दिया और किसान तरसता रहा।
ऽ आपको मध्यप्रदेश में कांगे्रस की सरकार बनने पर ऐसे जनप्रतिनिधि मिलेंगे जो जो नौजवानांे के रोजगार का प्रबंध करेंगे। वह किसानों और माताओं-बहनांे के साथ खडे़ मिलंेगे। 

ऽ नौजवानों से आग्रह है कि गांव-गांव जाओ, गली-गली जाओ, सात दिन बचे हैं, कहीं चूक मत जाना, आप लोगों ने ठान लिया तो आगामी 11 तारीख को कांगे्रस का झंडा मध्यप्रदेश की विधानसभा पर लहरायेगा।
ऽ पन्द्रह साल आपने झूठ और लूट की सरकार को देखा। आज के नौजवानों मंे एक अच्छे व्यवसाय और रोजगार के अवसर प्राप्त करने की तड़प है। उनके साथ भी बहुत बड़ा धोखा हुआ है। 
ऽ कितने नारे दिये थे। मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, डिजिटल इंडिया। मैं पूछना चाहता हूं कि कोई है यहां पर स्किल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया वाला? कितना बड़ा धोखा दिया है, हमारे नौजवानों को। 
ऽ शिवराजसिंह कम कलाकार नहीं हैं। इंदौर में हर साल इन्वेस्टर्स मीट कराते हैं। कहते हैं लाखों करोड़ का निवेश आने वाला है। सच्चाई तो यह है कि जितने उद्योग लगते नहीं, उतने बंद हो जाते हैं। 
ऽ किसान छोटा हो या बड़ा, उनका अपना मान-सम्मान होता है। कितना अपमान किया है शिवराज ने किसानों का। पूरे विश्व मंे सबसे ज्यादा आत्महत्या किसानांे की मध्यप्रदेश मंे होती हैं। 
ऽ मोदी जी कल छिंदवाड़ा आये थे। आपने अखबारों में पढ़ा होगा, बड़ी-बड़ी बातें करके गये हैं। किसानों, नौजवानों की बातें नहीं की। राहुल गांधी जी की बातें करके गये। मोदी जी नौजवानों के लिये, किसानों के लिये कोई घोषणा करके जाते। 
ऽ मोदी जी, सोनिया जी और राहुल जी की बात करते हैं। मैं तो उनसे कहना चाहता हूं कि सोनिया जी और राहुल जी की बातें छोड़िए। आप अपनी कुर्सी की चिंता करें, आपकी कुर्सी जाने वाली है।
ऽ शिवराज ने प्रदेेश के हर वर्ग को ठगा है। मध्यप्रदेश का मतदाता सरल स्वभाव का है। सब कुछ स्वीकार कर लेंगे, लेकिन इनके साथ कोई ठगी करे, यह स्वीकार नहीं करेंगे। 
ऽ हमने वचन-पत्र में साफ-साफ लिखा है कि किसानों का कर्जा माफ करेंगे, बिजली का बिल हाफ करेंगे। भाजपा साफ करेंगे। 
ऽ मुख्यमंत्री बड़े गो-सेवक बनते हैं। मुझे वो मंज़र भी याद है जो मैंने देवास में देखा कि गो-माता की कितनी दयनीय स्थिति हो रही है। आप सब मिलकर यदि कांग्रेस के नेताओं को वोट देते हैं तो कांगे्रस की संस्कृति को वोट देते हैं। वह संस्कृति जो तोड़ने वाली नहीं, जोड़ने वाली है। 
ऽ पठारी को नगर परिषद का दर्जा दिया जायेगा। शासकीय महाविद्यालय के लिए भी आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। 
ऽ अभी मैं मोदी जी की बात सुन रहा था कि पुलिस में कितनी भर्तियां हुईं। अन्य शासकीय विभागों में कितना बड़ा धोखा हुआ है। हजारों पद खाली पड़े हैं।

ऽ कमलनाथ की चक्की देर से चलती है पर बहुत बारीक पीसती है, लेकिन भाजपा की नीयत मंे खोट है। ये कहते थे नर्मदा साफ करेंगे, गंगा साफ करेंगे, जिनकी नीयत मंें खोट है, वे क्या नर्मदा और गंगा साफ करेंगे। 
ऽ माता बहनों ने थोड़े बहुत जो पैसे बचाकर और छुपाकर रखे थे उसे नोटबंदी करके मोदी ने बाहर निकलवा दिये। छह सौ रूपये का खाता खुलवाया और वह भी बैंकों ने 100 रूपये काटकर 500 का कर दिया।