ओरंगाबाद से मध्य प्रदेश लौट रहे मजदूर ट्रेन की चपेट में आये हादसे में 16 की मौत

0
119

सभी मजदूर मध्यप्रदेश के शहडोल और उमरिया जिले के है जो जालना स्थित स्टील फैक्ट्री में काम करते थे, घटना सुबह 5 बजे के लगभग की है

नवलोक समाचार, ओरंगाबाद।  महाराष्ट्र के ओरंगाबाद में आज सुबह करीब 5:15 मिनिट पर रेलवे ट्रेक पर दर्दनाक हादसा हो गया जिसमें पैदल मध्यप्रदेश लौट कर आ रहे 16 मजदूरों की मालगाड़ी से कटने के चलते मौत हो गई वही कई घायल हो गए है। बताया जा रहा है कि मजदूर ओरंगबाद से जालना की तरफ पैदल यात्रा कर रहे थे रात में 40 किलोमीटर चलकर थक जाने के कारण पटरियों पर ही सो गए थे।
बता दे कि कोरोना के चलते देश भर में लॉक डाउन है ऐसे में एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने पर भी पाबन्दी है , सरकार द्वारा अनुमति पर ही बाहर जा सकते है। हालांकि सरकार द्वारा श्रमिक श्पेशल ट्रेन भी चलाई जा रही है, जिसके बावजूद भी मजदूरों का पैदल निकलना बंद नही हो पा रहा है। उधर महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमित की संख्या 17974 के पार हो गई है तो 694 लोगो की मौत भी हो चुकी है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में ही कोरोना संक्रमित लोगो का आंकड़ा 12000 से ज्यादा पहुच रहा है।
ओरंगबाद हादसे के बाद मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र सरकार ने मृतको के परिजनों को 5–5 लाख की सहायता देने का एलान किया है। घायलों के उपचार के लिये आसपास के अस्पतालों में भर्ती किया गया है, घटना को लेकर प्रधानमंत्री श्री मोदी ने दुख जताते हुए जांच के आदेश भी दिए है।
रेलवे मंत्रालय ने बताया है कि घटना बदनापुर ओर करनाड स्टेशनों के बीच की है, जो कि मनमाड रेल सेक्शन के अंतर्गत आता है, शुक्रवार सुबह मजदूर पटरियों पर सो रहे थे, जिन्हें मालगाड़ी के ड्राइवर ने देख लिया था , बचाने की कोशिश भी की लेकिन हादसा हो गया। घटना के बाद रेलवे ने जांच के आदेश दे दिए है।
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने अफसरों के एक दल को विशेष विमान से भेजा है जो मृतको के अंतिम संस्कार की व्यवस्था कराएंगे साथ ही घायलों के उचित उपचार की व्यवस्था कराएंगे।

मध्य प्रदेश शहडोल ओर उमरिया के थे मजदूर

बता दे कि सभी मजदूर मध्यप्रदेश लौटने की आस लेकर जालना से ओरंगबाद के लिये पैदल निकले थे, 40 km चलने के बाद सभी थककर करनाड स्टेशन के पास ट्रेक पर ही सो गए थे। जानकारी के चलते 14 मजदूरों की मौत मौके पर ही हो गई थी वही 2 की मौत इलाज के दौरान हुई। दरअसल ओरंगाबाद से श्रमिक श्पेशल ट्रेन मध्यप्रदेश के लिये आ रही थी , जिसके कारण जालना की एस आरजे स्टील फेक्ट्री में काम करने वाले मध्यप्रदेश के ये मजदूर घर लौटना की आस में लौट रहे थे। सभी मजदूर मध्यप्रदेश के शहडोल ओर उमरिया जिले के बताए जा रह।

घटना में बिखरा समान, रेलवे पुलिस ने समेटा
घटना स्थल पर मजदूरों के शव छत बिछत हो गए साथ ही सभी का सामान भी फैल गया था , पुलिसकर्मियों ने मजदूरों के समान को समेटा जहाँ रोटियां भी पड़ी मिली, शायद मजदूरों ने रास्ते के लिये रोटियां रखी होगी जो उनकी भूख भी नही मिटा पाई।

घटना स्थल पर पड़ी मिली रोटियां

लॉक डाउन में दरदर घटक रहे मजदूरों को लेकर देश भर में चर्चाओं का सिलसिला जारी है लेकिन अभी तक सरकार ने ऐसी कोई व्यवस्था नही की है जिसके चलते पलायन रूकता या मजदूरों को अकुशल उनके स्थाई पते तक पहुचाया जा सकता ।